आमदनी दुगनी करवा लो

रवि अरोड़ा
हर बार की तरह इसबार भी मोदी जी मैं आपकी बात का समर्थन करता हूं । वाकई आपकी तपस्या में ही कोई कमी रह गई जो आप कृषि कानूनों का लाभ इन चंद किसानों को समझा नहीं पाए । हालांकि इस तपस्या के तहत जमकर लाठी चार्ज हुए । आंसू गैस के गोले छोड़े गए । सड़कों पर गड्ढे खोद कर और कीलें बिछाकर साल भर तक लोगों के रास्तों को रोके रखा गया । पानी की बौछारें की गईं । हजारों किसानों को सर्दी गर्मी और बरसात झेलने के लिए पूरे साल खुले में रखा गया । देश बंद करवाया, बाजार बंद करवाए, ट्रेनें रुकवाई । सात सौ से अधिक किसानों की आहूति ली गई । जीप चढ़ा कर उन्हे कुचला गया । हजारों को झूठे मुकदमों में जेल भेजा गया । उन्हें खलिस्तानी, टुकड़े टुकड़े गैंग, पाकिस्तान के एजेंट, गद्दार, आंदोलन जीवी और न जाने किस किस तमगे से नवाजा गया मगर फिर भी पता नहीं क्यों किसानों को समझाया नहीं जा सका । वाकई मोदी जी आपकी तपस्या में ही कोई कमी रह गई शायद ।

वैसे तपस्या तो मोदी जी आप बहुत ही करते हैं । केदारनाथ की गुफा हो या संसद हर जगह कैमरों की छांव में आपके द्वारा की गई तपस्या का मैं कायल हूं । मगर ये जो पब्लिक है न, ये पूरी एहसान फरामोश है । आपकी तपस्या को समझती ही नहीं । ये किसान तो कतई बावले हैं , इन्हे तो तपस्या वपस्या की बिलकुल तमीज नहीं । पिछली बार भूमि अधिग्रहण कानून के समय भी ये कहां समझे थे । जबकि आप इनके भले के लिए ही अध्यादेश लाए थे कि सरकार उनकी जमीन को बिना उनकी इजाज़त के ले सकती है । जब ये बावले अटक गए तो मजबूरी में आपको अपनी तपस्या चूल्हे में और अध्यादेश को कूड़ेदान में फेंकना पड़ा । इसबार भी आप इनकी आमदनी दुगनी करने के लिए अपने चेले चपाटों को लगाने वाले थे मगर ये फिर अड़ गए । चेलों ने तो अनाज भरने को बड़े बड़े गोदाम भी बनवा लिए थे मगर ये तपस्या भी जाया हो गई । अजी मरने दीजिए इन्हे । आप अपने चेलों की ही आमदनी दुगनी कीजिए । वे कम से कम एहसान तो मानते हैं , इनकी तरह आंखें तो नहीं दिखाते । अब देखो न , कह रहे हैं कि पहले एमएसपी लाओ और मुकदमे वापिस लो फिर धरना हटाएंगे । ऐसे भी होता है क्या ? उंगली पकड़ाई तो ये पोंचा ही पकड़ रहे हैं । पोंचे के बाद भी पता नहीं क्या क्या मांगेगे ?

वैसे समझ नही आता कि आपकी बात का भरोसा क्यों नही कर रहे ये किसान ? आपने जब एलान कर दिया है कि कानून वापिस तो वापिस ही माने जाने चाहिए ? फिर क्यों कह रहे हैं कि पहले संसद में पास कराओ ? अपनी बात से मुकरेंगे क्या आप ? पहले कभी मुकरे हैं क्या ? आपने आजतक जो कहा करके दिखाया तो है । काला धन , सबको पंद्रह लाख , महंगाई का खात्मा, स्मार्ट सिटी , बुलेट ट्रेन, चीन को लाल आंखें और हर साल दो करोड़ को रोजगार जैसी बातों को जाने दीजिए । ये सब तो चुनावी बातें थीं । इसके अलावा कोई वादा खिलाफी की हो तो कोई बताए । क्यों ये किसान कलराज मिश्र जैसों की बातों को गंभीरता से ले रहे हैं , जो कहते हैं कि कृषि कानून फिर से लाए जाएंगे । दुबारा लाने होते तो वापिस ही क्यों लेते ? पांच राज्यों का चुनाव शुनाव की बातें तो बकवास है । चुनाव जीतने होंगे तो आप हिंदू मुस्लिम करके भी जीत जायेंगे । मुफ्त में छीछालेदर भला क्यों कराते ? चलिए ये बावले नहीं मानते तो इनकी ही सही । जैसा कह रहे हैं आप कर दीजिए । घर से साग दो और फूहड़ कहलाओ । इन्हे तो आप इनके हाल पर ही छोड़ दीजिए । नहीं करवाते अपनी आमदनी दुगनी तो मरें परे । आप भी अब इनकी ओर मत झांकना और अब आमदनी दुगनी कराने के लिए कोई नया दरवाजा देखना ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

RELATED POST

नंबर किस किस का

रवि अरोड़ानैनीताल जाते हुए हर बार रामपुर से होकर गुजरना ही पड़ता है । दो दशक पहले तक तो रामपुर…

रहनुमाओं की अदा

रवि अरोड़ाआज सुबह से मशहूर शायर दुष्यंत कुमार बहुत याद आ रहे हैं । एक दौर था जब साहित्य, समाज…

दुनिया वाया सुरमेदानी

रवि अरोड़ाएक दौर था जब माएं अपने छोटे बच्चों को तैयार करते समय नहलाने, कपड़े पहनाने और कंघा करने के…

आखिर अब तक

रवि अरोड़ायाददाश्त अच्छी होने के भी बहुत नुकसान हैं । हर बात पर दिमाग अतीत की गलियों में भटकने चला…