गंगा से निकलीं तीन नहरें

गंगा से निकलीं तीन नहरेंदो सूखी और एक बहती ही नहींजो बहती ही नहींउसमें नहाने गए तीन पंडितदो डूब गए और मिला ही नहींजो मिला ही नहींउसे मिलीं तीन गायेंदो बाँझ और एक ब्याही ही नहींजो ब्याही ही नहींउसने दिए…

सुनो भई गप-शप

सुनो भई गप सुनो भई शपके नदिया नाँव में डूबी जायसुनो भई गप सुनो भई शपके नदिया नाँव में डूबी जायसुनो भई गपसुनो भई शपलौंग और इलायची नहाने चलेऔर इलायची ने मारी डुबकीलौंग ज़ोर से रोने लगाहाय हाय इलायची डूबीसुनो…

बूढ़े

जीवन में उत्साह ढूँढते हैं बूढ़ेउत्साहजो कहीं छूट गया हैपिछले किसी स्टेशन परअबसमय भी तो नहीं कटता बूढ़ों कातभी तोपास से गुज़री हर ख़बर में ढूँढते हैं बूढ़ेउत्साह का कोई झोंकाख़बरें जो दूर से ही गुज़र जाती हैंऔर नहीं पहुँचतीं…

सेवा भारती

सेवा भारती के राष्ट्रीय संघटन मंत्री व संघ के वरिष्ठ प्रचारकों में से एक बड़े भाई श्री राकेश जैन जी ने दुल्ला भट्टी वाले के बाबत कुछ और जानकारी भेजी है । कहा गया है कि यह इतिहास में दर्ज…

तू है मेरी बेटी

तू हीतू ही तू ही तू हीमेरे जिस्म के बाहर मेरा जिस्ममेरी रूह के बाहर मेरी रूहमेरे कुल वजूद के बाहर मेरा वजूदतू हीतू ही तू ही तू हीमुझ सी अक्खड़ मुझ सी अड़ियलमुझ सी कोमल मुझ सी सख़्तमुझ सी…

आओ मित्र आओ

मित्र , आओ खड़ताले बजायें एक दूसरे की शान में चिमटे, छैने , झाँझ-मंजीरे सब बजायें परस्पर क़सीदे पढ़ें और एक दूसरे की जय जयकार करें मैं तुम्हारी हर बात पर वाह वाह कहूँ तुम बात बेबात पर मेरी बलायें…

गुमशुदगी

मेरी चीज़ें अक्सर हो जाती हैं गुम ना जाने कौन चुरा ले जाता है उन्हें हासिल करने तक वे रहती हैं हरदम मेरे साथ मगर मेरी होते ही वो हो जाती हैं गुम बचपन से लेकर आजतक यही खेल होता…

यादें

शर्मीली हैं मेरी यादेंनंग-धड़ंग आने से डरती हैंमुझ तकअदाएँ भी कुछ कम नहींख़ुद से पहले भेजती हैंफ़ुटनोट का हरकाराखट्टा , मीठा , कड़वाऔर दूसरे सभी स्वादों का फ़ुटनोटहर याद पर चिपकी हैदुख या सुख की पर्चीक्या करूँइन पर्चियों के पीछेकहीं…

इतिहास

इतिहास मुझे डराता हैइससे भी अधिक डराता है मुझेख़ुद इतिहास हो जानातमाम सुख लुभाते हैंयूँ ही चुपके से फ़ना होने केगुमनामी की हैंतमाम सिफ़तें अनंत में बेचैन तो रहते होंगेसभी इतिहास पुरुषकैसे देते होंगेउठे सभी सवालों के जवाबकैसे मोड़ते होंगेउठी…

अतीत

बच्चे अक्सर नाराज़ हो जाते हैंमाँ-बाप सेआख़िर एसे क्यों हैं माता-पिताक्यों हैंकुछ अधिक ही दोस्तानाडाँटते क्यों नहीं उन्हेंकोसते क्यों नहींउसके आलस्य परप्रोत्साहित क्यों नहीं करतेकुछ कर गुज़रने कोपुरानी पीढ़ी ही बिगाड़ रही हैनौजवानों कोउलाहना देते हैं बच्चे अक्सरजीवन में असफल…