बहुत कठिन है डगर ज्योति मोर्यों की

रवि अरोड़ा
कायदे से तो इस महिला का नाम ही सार्वजनिक नहीं किया जाना चाहिए था मगर अब ज्योति मोर्या केवल नाम भर भी कहां रह गया है । ‘ बेटी पढ़ाओ-पत्नी नहीं ‘ का नारा बुलंद करने वाली पुरूष सत्तात्मक शक्तियां छाती पीट रही हैं और दावा कर रही हैं कि सफाई कर्मी आलोक ने मेहनत मशक्कत कर अपनी बीवी ज्योति को पढ़ाया लिखाया और अब बड़ी अधिकारी बनने के बाद वह एक अन्य पीसीएस अधिकारी से पींघें बढ़ा रही है और तलाक के लिए उस पर दबाव डाल रही है। हालांकि यह पति पत्नी का निजी मामला था और इसकी सार्वजनिक रूप से चर्चा भी नहीं की जानी चाहिए थी मगर जब ऐसी खबरें सामने आने लगी हों कि इस मामले की आड़ लेकर लोग बाग अपनी बीवियों की पढ़ाई लिखाई छुड़वा रहे हैं तो जाहिर है कि इस पर विमर्श होगा ही ।

समाचारों की दुनिया का मूल मंत्र है कि कुत्ता यदि आदमी को काट ले तो यह ख़बर नहीं है । मगर आदमी किसी कुत्ते को काट ले तो बेशक तूफानी खबर बनती है। ज्योति मोर्या का मामला भी कुछ ऐसा नहीं है क्या ? पत्नी द्वारा पति को छोड़ने पर उस मुल्क में बवाल हो रहा है जहां तमाम कथानकों के भगवान मार्का लोग अपनी निर्दोष पत्नियों को छोड़ने के बावजूद भगवान के अपने ओहदे से पदावनित नहीं किए गए ? नाम लिखने की भला क्या आवश्यकता है जब हमारा लगभग हर भगवान भगवान बीवी छोड़ अथवा बहु पत्नी वाला है। कथानकों से इतर आधुनिक काल भी भला ऐसे पुरूषों से कहां रिक्त है जिन्होंने सफलता के लिए अथवा सफल होने के बाद अपनी पत्नी को छोड़ दिया । फिल्मी दुनिया ही नहीं राजनीति, ब्यूरोक्रेसी और मीडिया जगत के अनगिनत ऐसे लोगों को हम आप जानते हैं। फिर सारा नजला अपने पति को छोड़ना चाह रही एक स्त्री पर ही क्यों ? हो सकता है कि आलोक के आरोप सही हों मगर इससे उसका यह अधिकार कैसे सिद्ध हो जाता है कि अब उसकी पत्नी को सारी उम्र उसके पल्लू से ही बंधा रहना चाहिए ? पत्नी को पीसीएस अधिकारी बनवाने में ‘ पढ़ने की अनुमति देने ‘ के अतिरिक्त उसकी अन्य भूमिका और भला क्या रही होगी ? इस अनुमति के बदले में क्या पत्नी की तमाम उम्र की कमाई चाहिए उसे अब ? हो सकता है कि ज्योति के किसी अन्य पुरूष से रिश्ते हों मगर यह अपराध तो नहीं है। पांच साल पहले सर्वोच्च न्यायालय डेढ़ सौ साल पहले के इस दकियानूसी कानून को समाप्त कर चुका है और उसने स्पष्ट कर दिया है कि यदि किसी अन्य से रिलेशन में हैं तो औरतें भी स्वतंत्र निर्णय ले सकती हैं। साथ ही किसी की भी शादीशुदा जिंदगी यदि खराब चल रही है तो वह तलाक ले सकता है। ऐसे में भला ज्योति की तलाक की अर्जी पर बवाल क्यों ? मामला अब अदालत में है और सभी पक्षों को न्याय मिलने की उम्मीद की जानी चाहिए मगर प्रदेश सरकार को क्या सूझी जो उसने निजी मामला होने के बावजूद दोनो पीसीएस अधिकारियों पर तबादले की गाज गिरा दी और उनसे जवाब तलब कर लिया ? क्या सरकार भी पुरूष सत्तात्मक मानसिकता की शिकार है ?

पिछली आधी सदी में स्त्री सशक्तिकरण पर बहुत काम हुआ है और उसी का नतीजा है कि हर वह कार्य जिस पर पुरूषों का विशेषाधिकार था स्त्रियां भी कर रही हैं। कम पढ़े लिखे और विकास में पीछे छूटे परिवारों में भी स्त्रियों को आगे बढ़ाने की सकारात्मक प्रवृत्ति देखी जा रही है। जाहिर है कि इससे आने वाले वक्त में ज्योति मोर्या जैसे अन्य मामले भी सामने आएंगे। क्या ही अच्छा हो कि इसके प्रतिउत्तर में ज्योतियों का रास्ता काटने के बजाय हमारा पुरूष वर्ग खुद पर काम कर अपने को उनके लायक बनाए । लायक पत्नी की चाह नालायक पति करें यह भी तो उचित नहीं ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

RELATED POST

जो न हो सो कम

रवि अरोड़ाराजनीति में प्रहसन का दौर है। अपने मुल्क में ही नहीं पड़ोसी मुल्क में भी यही आलम है ।…

निठारी कांड का शर्मनाक अंत

रवि अरोड़ा29 दिसंबर 2006 की सुबह ग्यारह बजे मैं हिंदुस्तान अखबार के कार्यालय में अपने संवाददाताओं की नियमित बैठक ले…

भूखे पेट ही होगा भजन

रवि अरोड़ालीजिए अब आपकी झोली में एक और तीर्थ स्थान आ गया है। पिथौरागढ़ के जोलिंग कोंग में मोदी जी…

गंगा में तैरते हुए सवाल

रवि अरोड़ासुबह का वक्त था और मैं परिजनों समेत प्रयाग राज संगम पर एक बोट में सवार था । आसपास…