प्रजा इतिहास रचती है

रवि अरोड़ा
लगभग पैंतीस साल पहले भारतीय जन नाट्य संघ की ओर से नाटकों का अपना स्क्रिप्ट बैंक शुरू करने का काम मुझे सौंपा गया । लेखक अजित पुष्कर जी का जो पहला नाटक मैंने छापा उसका शीर्षक था- प्रजा इतिहास रचती है । इस पुस्तक की ख़ास बात यह थी कि इसका कवर पेज डिजाइन किया जाने माने भौतिक शास्त्री अमिताभ पाण्डे ने । कवर पेज पर कोई तस्वीर अथवा पेंटिंग न होकर विश्व प्रसिद्ध नाटककार और कवि बर्तोल ब्रेख्त की एक मशहूर कविता छापी गई । कारण यह था कि नाटक का शीर्षक कविता के विचार से हूबहू मिलता जुलता था । यह कविता बाद में, पहले उस प्रजा की बात कर लें जो आजकल पुनः एक इतिहास रच रही है ।
दो तिहाई दुनिया आजकल अपने घरों में क़ैद है । जितने लोग हैं उनकी उतनी ही कहानियाँ हैं । सुख के दुःख के तमाम अफ़साने हैं । उनके लिए सुखद होंगे जो अपनों के बीच हैं और उनके इर्दगिर्द तमाम संसाधन हैं । ज़ाहिर है दुःख उनके ही हिस्से आया है जो सुबह कमाते हैं और शाम को खाते हैं । वे भी ग़मज़दा हैं जो इस वक़्त अपनों से दूर हैं । भारत जैसे मुल्क जिसकी एक तिहाई आबादी रोज़गार के लिए अपने घरों से दूर बड़े अथवा मझोले शहरों में खटती है , उनकी त्रासदी सबसे घातक है । प्रवासी मज़दूर तो दो वक़्त की रोटी की जंग लड़ रहे हैं । बेशक कोरोना से देश के डाक्टर और तमाम मेडिकल टीम लड़ रही है मगर इन श्रमिकों की रोटी की लड़ाई भी किसी से कम है क्या ? विजय के बाद भूख से बिलबिलाते पेट भी क्या किसी मेडिकल किट जितना महत्व पायेंगे ?
कोरोना से हम जीतेंगे , अवश्य जीतेंगे । मगर यह जीत हमसे क़ुर्बानियाँ भी जम कर लेगी । कमोवेश ले भी रही है । उधर, दुनिया भर में इस युद्ध के नायक और खलनायक तय किये जा रहे हैं । हमारे यहाँ तो यह काम कुछ ज़्यादा ही तेज़ी से हो रहा है । ऊँची कुर्सियों पर बैठ सही अथवा ग़लत फ़ैसले लेने वाले चेहरों को अभी से चमकाया जा रहा है । हम मान कर ही चल रहे हैं कि जीते तो इसकी वजह से और यदि हारे तो उसकी वजह फ़लाँ फ़लाँ होंगे । उनकी कहीं बात नहीं हो रही जिनकी क़ुर्बानी ली जा रही है । माहौल ही कुछ एसा है उनका नाम लेना भी इस युद्ध को कमज़ोर करना मान लिया जाएगा । अब ठीक ही तो है । दुनिया के तमाम युद्ध राजा ही तो जीतते हैं । तलवार से अथवा भूख से मरे कहाँ याद किये जाते हैं ? अब हम भी कौन से अनोखे हैं । हम भी कहाँ ज़िक्र करेंगे उन लोगों को जिनकी बलि से ही हमारे जयघोष शुरू हुए हैं । चलिए छोड़िये यह बात । ब्रेख़्त की वह कविता पढ़िये-
किसने बनवाया था
थेबस सात दरवाज़ों वाला
किताबों में तुम पाओगे नाम
राजा महाराजाओं का
क्या राजा ने ढोये थे पत्थर ?
और बेबीलोन कितनी बार हुआ धूलधूसरित
किसने बनवाया उसे इतनी बार ?
स्वर्ण नगरी लीमा के किस मकान में
रहते होंगे कारीगर मजूर ?
उस शाम जब चीन की दीवार बन पूरी हुई
कहाँ गया होगा कारीगर पत्थर चिनने वाला ? महान रोम भरा पड़ा है विजय द्वारों से
किसने बनाया उन्हें ?
कैसर ने किस पर विजय पाई
युवा एलेक्जेंडर ने भारत को जीता
क्या वह अकेला ही आया था ?
सीज़र ने दबोचा गॉल लोगों को
कोई उसका रसोईया था या नहीं ?
हरेक पन्ने पर लिखी है विजय
पर खाना कौन बनाता था
विजयी योद्धाओं के लिए ?
हर दस साल में एक महापुरुष
कौन चुकाता है इनके बिल ?
बहुत सारी रिपोर्ट हैं
और बहुत सारे हैं सवाल ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

RELATED POST

गाय के कुपूत

रवि अरोड़ाहालांकि इस तरह का कोई सर्वे आज तक नहीं हुआ कि सर्वाधिक पाखंडी किस धर्म के लोग हैं मगर…

चलो किसी बहाने हिल्ले तो लगे

रवि अरोड़ाजिसने भी किया है, अच्छा नहीं किया । भला क्या जरूरत थी विधायकों के विधानसभा में तम्बाकू खाने और…

थोड़ी थोड़ी पिया करो

रवि अरोड़ाशायद साल 1995 की बात है। नवरंग सिनेमा हॉल में पंजाबी बिरादरी के एक कार्यक्रम में मशहूर आईपीएस अफसर…

अथ श्री चीता कथा

रवि अरोड़ावाकई मोदी जी तुसी ग्रेट हो। देखो न सारे मुल्क को काम पर लगा दिया। जिसे देखो वही अब…