अग्निपथ : एक सपने की मौत

रवि अरोड़ा
विगत 26 अप्रैल की एक खबर आपको दोबारा पढ़वाना चाहता हूं । हरियाणा के भिवानी में एक 23 वर्षीय युवक पवन ने पेड़ से लटक कर आत्महत्या कर ली। यह पेड़ उसी स्कूल के मैदान में था जहां पिछले कई साल से पवन पसीना बहा कर फौज में भर्ती की तैयारी कर रहा था । उसने मेडिकल और फिटनेस दोनो एग्जाम पास कर लिए थे मगर इसी बीच कोविड के चलते भर्तियां बंद हो गईं और दोबारा शुरू होने के इंतजार में ही उसकी योग्यता हेतु अधिकतम उम्र सीमा पार हो गई । मरने से पहले अपने पिता के नाम चिट्ठी में पवन ने लिखा कि पिता जी इस जन्म में तो फौजी नहीं बन सका मगर अगले जन्म में जरूर बनूंगा । पवन से मिलती जुलती ही एक खबर अभी अभी फिर पढ़ने को मिली । हरियाणा के ही रोहतक के पीजी हॉस्टल में सचिन नाम के एक नवयुवक ने आत्महत्या कर ली । सचिन भी सेना में भर्ती होने की तैयारी कर रहा था और अब इस भर्ती के लिए लाई गई सरकार की अग्निपथ योजना के चलते निराशा के गर्त में चला गया था । फौज में भर्ती का सपना टूटने पर पवन और सचिन जैसे ही अपनी इहलीला समाप्त करने वाले युवकों की इस देश में एक लंबी फेहरिस्त है ।

मेरा लगभग रोज ही अनेक गांवों से होकर गुजरना होता है । भरी दुपहरी में किशोर और नवयुवक सड़कों पर दौड़ लगाते दिखते हैं । दरअसल फौज में भर्ती एक ऐसा सपना है जो मुल्क की ग्रामीण आबादी लेकर ही पैदा होती है । यदि चुन लिए गए तो मान सम्मान , पैसा, शोहरत और अच्छी जगह शादी तो हो ही जाती है और यदि शहादत भी मिली तो भी परिवार ही नहीं पूरे खानदान का नाम रौशन हो जाता है । उत्तर प्रदेश, हरियाणा, पंजाब और बिहार के ग्रामीण अंचल में छुट्टी पर आए फौजी किसी सेलिब्रिटी से कम नहीं होते । शायद यही वजह है कि हर साल लाखों नवयुवक इस भर्ती की तैयारी करते हैं और अब पिछले दो साल से भर्ती बंद होने के बावजूद उनके उत्साह में दो दिन पहले तक कोई कमी भी नहीं आई थी । अब 14 जून को सरकार ने घोषणा कर दी कि उसकी अग्निपथ योजना के तहत यह भर्ती अब केवल चार साल के लिए होगी और सेवा समाप्त होने पर सेवानिवृत सैनिकों को मिलने वाला लाभ भी नहीं दिया जायेगा तो ग्रामीण नवयुवकों को यह अपने सपने की हत्या जैसा लग रहा है और गुस्से में वे तोड़फोड़, आगजनी और हिंसक प्रदर्शन कर रहे हैं ।

पता नहीं क्यों मुल्क के रहनुमाओं को नए नए प्रयोग करने में मज़ा आता है ? लगातार एक के बाद एक असफल हो रहे प्रयोगों के बावजूद उन्हे ऐसा कुछ करने में न जाने क्यों जरा भी हिचकिचाहट नहीं होती ? इस अग्निपथ योजना से देश की सुरक्षा पता नहीं कितनी मजबूत होगी अथवा कितनी कमज़ोर , यह तो आने वाला समय बताएगा मगर इतना तो साफ दिख ही रहा है कि फौजियों को मिलने वाली पेंशन सरकार की आंख में खटक रही है और यह योजना बस पैसा बचाने का टोटका भर है । पाकिस्तान द्वारा किए जाने वाले नित नए षड्यंत्रों , सीमाओं पर चीन के अतिक्रमण और रूस यूक्रेन युद्ध से जन्मे अंतराष्ट्रीय हालात के बावजूद पता नहीं सरकार ने इस अनोखे प्रयोग के लिए यही वक्त क्यों चुना ? आज जब सेना में 97 हजार 177 पद खाली पड़े हैं और इनके लिए लाखों नवयुवक पिछले कई सालों से पसीना बहा रहे हैं , उनके साथ केवल चार साल की भर्ती क्या छलावा नहीं होगा ? क्या यह उचित नहीं होता कि सरकार पुराने पद पुराने तरीके से ही भरती और अग्निपथ जैसी अपनी योजना अगले सालों की भर्ती के लिए रख छोड़ती ? अजब विडंबना है , जिन्हे देश की हिफाजत के लिए हम सालों तक प्रेरित करते रहे अब वही युवक उपद्रवी हो गए और सरकार को उन पर लाठियां भांजनी पड़ रही हैं ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

RELATED POST

आज्ञा के स्तर का सवाल

रवि अरोड़ाशाहरूख खान की फिल्म पठान द्वारा की जा रही ताबड़तोड़ कमाई ने कई चीजें एक साथ तय कर दी…

ताड़ने वालों की दुनिया

रवि अरोड़ाधीरेंद्र शास्त्री यानि बागेश्वर धाम सरकार का खेल समझने के लिए कई बार उसके वीडियो देखने की कोशिश की…

महामानव से कुछ सीखो ऋषि सुनक जी

रवि अरोड़ापता नहीं कैसी दुनिया है वो और पता नहीं कैसे लोग हैं। पुलिस ने प्रधान मंत्री का न केवल…

गिद्धों से अटी खेल की दुनिया

रवि अरोड़ापता नहीं ये नेता लोग सचमुच इतने चरित्रहीन होते हैं या यूं ही इनपर यौन शोषण के आरोप आए…