अविश्वास तेरा ही सहारा

रवि अरोड़ादस साल के आसपास रही होगी मेरी उम्र जब मोहल्ले में पहली बार जनगणना वाले आये । ये मुई जनगणना क्या होती है मेरी माँ को नहीं पता था । मोहल्ले में तरह तरह की अफ़वाहें थीं । कोई…

पैसे नहीं तो आगे चल

रवि अरोड़ाशहर के सबसे पुराने सनातन धर्म इंटर कालेज में कई साल गुज़ारे । आधी छुट्टी होते ही हम बच्चे मेन गेट की ओर दौड़ पड़ते थे । बाहर खाने पीने के सामान का बाज़ार जो सज़ा होता था ।…

एक दौर था

एक दौर था जब बनारस के लिए कहा जाता था-रांड साँड़ सीढ़ी और सन्यासी , इनसे जो बचे उसे लगे काशी । वेश्याव्रती तो अब काशी में नहीं होती । कई कई दिन तक लगातार लड़ने वाले साँड़ भी काशी…

चोचलिस्टों की दुनिया

शायद राजकपूर की फ़िल्म 'जिस देश में गंगा बहती है ' का यह डायलोग है जिसने अनपढ़ बने राजकपूर किसी से पूछते हैं की क्या आप ' चोचलिस्ट ' हो जो दुनिया बरोब्बर करना चाहते हो ?....फ़िल्म में सोशलिस्ट के…

धीरा सो गम्भीरा

मित्रों , एक दौर था जब कहा जाता था कि उतावला सो बावला , धीरा सो ग़म्भीरा । अब ज़माना बदल गया है । अब उतावला गम्भीर और धीरा बावला माना जाने लगा है । इस मुहावरे के नए प्रतिपादन…

फ़र्श से अर्श तक

( कुछ साथियों के आदेश पर पूरा लेख हूबहू यहाँ पेश कर रहा हूँ । जिन मित्रों की रुचि ग़ाज़ियाबाद और उसकी पत्रकारिता में नहीं है उन्हें अपना समय जाया करने की सलाह मैं नहीं दूँगा । अलबत्ता शहर के…

(दूसरी कड़ी )

स्वर्गीय गोपाल कृष्ण कॉल , स्वर्गीय सुदर्शन कुमार चेतन , स्वर्गीय ब्रजनाथ गर्ग , श्री कुलदीप तलवार , स्वर्गीय शिवेंद्र कुमार परिवर्तन , स्वर्गीय अमरनाथ सरस , स्वर्गीय हरप्रसाद शास्त्री और स्वर्गीय कन्हैयालाल मत् जैसे लोग अखबारों में लिखते पढ़ते…

(आख़री कड़ी )

उस दौर के अखबार नवीसों में गजब की एकता भी उन दिनों थी । अनेक पत्रकार संगठन तब सक्रिय थे । वर्ष 1978 में क्रोनिकल समाचार पत्र के संपादक श्री नाहर सिंह चौधरी के निधन पर उनके परिवार को आर्थिक…

( तीसरी कड़ी )

स्वर्गीय तेलूराम कम्बोज जी को ग़ाज़ियाबाद से पहला दैनिक समाचार पत्र निकालने का भी श्रेय जाता है। अपनी वैचारिक प्रतिबद्धता और जन सरोकारों के चलते वे बाद में शहर के महापौर भी बने ।यह वही वक्त था जब राष्ट्रीय समाचार…

सलाम राम्या

रवि अरोड़ानिजी तौर पर पाकिस्तान के हालात मुझे भी नर्क से बदतर नज़र आते हैं । पहले दिन से ही वह हमारा विश्वासघाती पड़ोसी है । बावजूद इसके हमारे रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने जब उसे नर्क बताया तो मुझे…