साझे पहाड़-साझे समुंद्र

रवि अरोड़ा
अकेले भटकने की आदत के चलते एक बार फिर हरिद्वार, ऋषिकेश और देहरादून में था । इस बार का अनुभव कुछ अलग रहा । रिसॉर्ट व होटल मालिकों तथा प्रॉपर्टी डीलरों से बातचीत करने पर पता चला कि कोविड काल में पूरे उत्तराखंड की प्रॉपर्टी में आग लग गई है । देखने ही देखते वहां जमीनों के दाम कई गुना हो गए हैं । गंगा किनारे की प्रॉपर्टी तो एनसीआर से अधिक महंगी है । बड़े शहरों की भीड़ भाड़ से दूर लोगबाग पहाड़ों में पनाह ढूंढ रहे हैं । पहाड़ों में लगभग हर सड़क पर नए होटल और रिसोर्ट तो खुल ही रहे हैं साथ साथ गैर प्रांतीय आबादी भी वहां रिहाइश की गर्ज से पहुंच रही है । दिल्ली एनसीआर का धनाढ्य वर्ग सेकिंड होम की चाह में वहां जमीनें खरीद रहा है । बेशक वहां बाहरी आदमी सवा नाली यानी तीन सौ गज से अधिक जमीन नहीं खरीद सकता मगर वह हिंदुस्तानी ही क्या जिसके पास ऐसे कानूनो का तोड़ न हो । सो प्रॉपर्टी बाजार में बूम है ।

यह सब देख कर मैं थोड़ा हैरान हुआ कि अखबार तो हमें यह बताते रहते हैं कि उत्तराखंड में पलायन हो रहा है , यदि ऐसा है तो फिर लोगबाग क्यों वहां दौड़ रहे हैं ? खोजबीन करने बैठा तो पता चला कि बेशक बाहरी आदमी सुकून की चाह में पहाड़ों पर पहुंच रहा हो मगर स्थानीय आबादी तो वहां से उकताई ही पड़ी है । रोजगार का अभाव, पानी की किल्लत, सड़कों, स्वास्थ्य सुविधाओं और अच्छे स्कूल कालेजों की कमी लोगों को बड़े शहरों की ओर धकेल रही है । गांव के गांव खाली हो रहे हैं । सरकार भी मानती है कि प्रदेश के बारह सौ गांव आबादी विहीन हो चुके हैं । हालत की गंभीरता को देखते हुए सरकार को बकायदा पलायन आयोग का गठन करना पड़ा है । अजब हालात हैं । वहां का आदमी यहां आ रहा है और यहां का वहां जा रहा है ।

बेशक मैं क्षेत्रवाद का हिमायती नहीं मगर इस तरह के पलायन के कुछ अपने खतरे भी हैं, यह मानता हूं । सबसे बड़ा ख़तरा तो क्षेत्रीय विरासत, संस्कृति और भाषा के समक्ष खड़ा होना है । हालांकि ये खतरे भावात्मक हैं और इनके मुकाबले इसके लाभ बेहद ठोस हैं । सबसे बड़ा लाभ तो आर्थिक समानता, विकास और रोजगार के क्षेत्र में ही होता है मगर अफसोस उन पर इस मुल्क में चर्चा ही नहीं होती । विमर्श की कमान जिन्हे अपने हाथ में लेनी चाहिए वे तमाम राजनीतिक दल तो इसका लाभ उठाने में ही लगे हुए हैं और क्षेत्रीय भावनाओं को भड़का रहे हैं । पंजाब के चुनावों में मुख्यमंत्री चन्नी जब उत्तर प्रदेश व बिहार के भईया लोगों को गरियाते हैं तो साथ खड़ी प्रियंका गांधी ताली बजाती हैं । भाजपा नीत हरियाणा की सरकार सुप्रीम कोर्ट की परवाह न कर प्राइवेट सेक्टर की 75 फीसदी नौकरियों में स्थानीय निवासियों की अनिवार्यता की शर्त थोप देती है । मुंबई में यू पी बिहार के मजदूरों और टैक्सी वालों की मराठियों द्वारा पिटाई कोई नई बात नहीं है । वहां का सबसे बड़ा दल शिव सेना तो मराठी अस्मिता के नाम पर ही जिंदा है । हिंदी के विरोध के नाम पर उत्तरी भारतीयों का दक्षिण में जम कर तिरस्कार होता है । गोवा और पुद्दुचेरी में स्थानीय आदमी की साझेदारी के बिना कोई बाहरी आदमी व्यापार ही नहीं कर सकता । धारा 370 खत्म होने के बावजूद आज भी जम्मू कश्मीर में बाहरी आदमी मकान दुकान नहीं बना सकता । बाहरी आदमी को सहयोग न करने में बंगाली सबसे आगे रहते हैं । नंदी ग्राम जैसी घटनाएं इसकी मिसाल हैं । नॉर्थ ईस्ट में बसने का सपना तो हम आप देख ही नही सकते । अब बताइए क्या आपको नहीं लगता कि इस मुद्दे पर देश की स्पष्ट नीति हो और सभी राज्य उसका पालन करें । जब हम एक देश हैं , हमारा एक ही संविधान है , हमारे एक समान अधिकार हैं तो हमारे समुंद्र, पहाड़ और जमीन साझे क्यों नहीं ?

Leave a Reply

Your email address will not be published.

RELATED POST

नंबर किस किस का

रवि अरोड़ानैनीताल जाते हुए हर बार रामपुर से होकर गुजरना ही पड़ता है । दो दशक पहले तक तो रामपुर…

रहनुमाओं की अदा

रवि अरोड़ाआज सुबह से मशहूर शायर दुष्यंत कुमार बहुत याद आ रहे हैं । एक दौर था जब साहित्य, समाज…

दुनिया वाया सुरमेदानी

रवि अरोड़ाएक दौर था जब माएं अपने छोटे बच्चों को तैयार करते समय नहलाने, कपड़े पहनाने और कंघा करने के…

आखिर अब तक

रवि अरोड़ायाददाश्त अच्छी होने के भी बहुत नुकसान हैं । हर बात पर दिमाग अतीत की गलियों में भटकने चला…