वेदान्त बारास्ता स्पिनोज़ा

रवि अरोड़ा
मेरे मोहल्ले के मंदिर में हर मंगलवार को बहुत भीड़ रहती थी । प्रसाद चढ़ाने वाले ही नहीं बेचने वाले और इसे लेने वाले भिखारियों की भी अच्छी ख़ासी रेलमपेल रहती है उस दिन । मगर इस मंदिर के तमाम मंगलवार आजकल सूने-सूने से होते हैं। मेरे मोहल्ले का मंदिर ही क्यों , देश दुनिया के तमाम मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारे, गिरजाघर और अन्य सभी पूजा स्थल भी तो आजकल वीरान हैं । कोरोना के आतंक ने पूरी दुनिया की रौनक़ ग़ायब की है तो आदमी द्वारा बनाये गये भगवान के घर भी सुनसान क्यों न होंगे ? यक़ीनन तमाम पूजाघरों की वीरानगी ईश्वर के घर की वीरानगी नहीं हो सकती मगर वह शायर ही क्या जो इस पर बात कुछ तंज न करे या चुटकी न ले । अब उर्दू के मशहूर शायर अब्दुल हमीद अदम को ही लीजिये जिन्होंने लगभग आधी सदी पहले ही पूजाघरों की कुछ एसी ही वीरानगी पर यह शेर कह दिया था- दिल ख़ुश हुआ है मस्जिद-ए-वीराँ को देख कर ,मेरी तरह ख़ुदा का भी ख़ाना ख़राब है । अब अदम साहब जितनी समझ और साहस तो मुझमे नहीं मगर दो चार छोटी मोटी बातें तो मैं भी इस मौक़े पर कर ही सकता हूँ ।
सनातन धर्म शाश्वत है , इसमें कोई दो राय नहीं । मगर वेद और उपनिषद से शुरू हुई हमारी आस्थाएँ न जाने कहाँ कहाँ घूमती हुई अब कर्मकांडों में जाकर अटक गई हैं । पाप-पुण्य का एसा खेल हमारे साथ खेला गया है कि अब उनसे बाहर आने का कोई रास्ता ही नहीं सूझता । नैतिकता से मुँह चुराने को हमने धार्मिक स्थलों के चक्कर काटने शुरू कर दिये । बेशक तात्कालिक तौर पर ही सही मगर कोरोना की वजह से इस दिशा में अब कुछ आराम तो पड़ा है । बिज़नस मोडयूल बन चुके तमाम धार्मिक स्थलों की वीरानगी का बस इतना ही अर्थ है , इसे विज्ञान की धर्म पर बढ़त के रूप में क़तई नहीं आँका जा सकता । उधर, हमारी पीढ़ी की याददाश्त का यह पहला रमज़ान होगा जब इफ़्तियार दावतें नहीं हो रही होंगीं । पता नहीं अभी और कौन कौन से पूजा पाठ के दिन इसी प्रकार सोशल डिसटेंसिंग में बीतने हैं ।
विद्वान समझाते हैं कि कर्मकांडों से छुटकारा पाने के लिए हमें वेदान्त की और लौटना होगा । वेदान्त यानि वेदों का अंत यानि उनका सार अर्थात उपनिषद । मगर दुनिया पीछे तो लौटती नहीं । उसे तो हर मार्ग आगे की ओर चाहिये । तो आइये आगे के मार्ग की ही बात करते हैं ।बारूथ डी स्पिनोज़ा को याद करते हैं । वही स्पिनोज़ा जिसके ईश्वर को आइंस्टीन भी मानते थे । हमारे वेदान्त जैसी बातें ही तो करते हैं स्पिनोज़ा । ईश्वर को मनाने, उसकी चापलूसी करने और उसने डरने की बजाय उससे प्रेम की बात करते हैं स्पिनोज़ा । प्रेम भी भावुकता से नहीं वरन तन्मयता से भरा प्रेम यानि बौद्धिक प्रेम । स्पिनोज़ा वही सब तो कह रहे हैं जो हमारे वेद कहते हैं । आदि शंकराचार्य के अद्वैत की भाँति जीव और जगत को अलग न मानने की बात ही तो करते हैं स्पिनोज़ा ।
स्पिनोज़ा का ईश्वर इंसान से कहता है कि मुझसे प्रेम करना है तो मेरी बनाई दुनिया से प्रेम करो । उसका ईश्वर हमसे कहता है कि एसा तुमने सोच भी कैसे लिया कि मैं तुम्हें तुम्हारे किये की सज़ा अथवा इनाम दूँगा । क्यों सुबह शाम मेरे आगे नाक रगड़ कर अपना वक़्त ख़राब करते हो । तुम्हारे धार्मिक स्थल मैंने नहीं बनाये , वे मेरा घर क़तई नहीं हैं । मैं तो क़ुदरत के कण कण में हूँ । तुमने एसे कैसे मान लिया कि तुम्हें सज़ा देने के लिये मैंने नर्क जैसी कोई अलग से जगह बनाई होगी , जबकि तुम मुझे बहुत प्रिय हो । बेशक यह बातें भी पुरानी हैं और अब से साढ़े पाँच सौ साल पहले पुर्तगाली दार्शनिक स्पिनोज़ा द्वारा कही गईं मगर देखिये हैं ना आज भी कितनी मौजू ?
मैं भली भाँति जानता हूँ कि रहती दुनिया तक खुदा का खाना ख़राब कभी नहीं होगा । बेशक उसकी इबादतगाहों का आजकल खाना ख़राब है । मगर यह भी तो तभी तक है जब तक हम कोरोना से लड़ रहे हैं । इस महामारी से निपटते ही हम फिर एक दूसरे से लड़ेंगे और एक दूसरे के खुदा को अपने खुदा से अलग मानकर उसका खाना ख़राब करने की जुगत बैठाएँगे । ज़ाहिर है इस लड़ाई के शोर में फिर कहीं घुट जाएँगी वेदान्त और स्पिनोज़ा की बातें ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

RELATED POST

नंबर किस किस का

रवि अरोड़ानैनीताल जाते हुए हर बार रामपुर से होकर गुजरना ही पड़ता है । दो दशक पहले तक तो रामपुर…

रहनुमाओं की अदा

रवि अरोड़ाआज सुबह से मशहूर शायर दुष्यंत कुमार बहुत याद आ रहे हैं । एक दौर था जब साहित्य, समाज…

दुनिया वाया सुरमेदानी

रवि अरोड़ाएक दौर था जब माएं अपने छोटे बच्चों को तैयार करते समय नहलाने, कपड़े पहनाने और कंघा करने के…

आखिर अब तक

रवि अरोड़ायाददाश्त अच्छी होने के भी बहुत नुकसान हैं । हर बात पर दिमाग अतीत की गलियों में भटकने चला…