बाबा नाम केवलम

रवि अरोड़ा

सामने चिल्ला रहा टीवी बलात्कारी बाबा गुरमीत राम रहीम की धज्जियाँ उड़ा रहा है । हाथ में पकड़ा हुआ अख़बार पंचकुला के ख़ौफ़नाक मंज़र की तस्वीरों से बार बार मेरी चाय का स्वाद कसैला कर रहा है । ध्यान हटाने को फ़ोन उठाता हूँ मगर वहाँ भी यही सब कुछ । सोशल मीडिया बाबा मीडिया ही बना पड़ा है । पिछले तीन रोज़ से दिन की शुरुआत कुछ एसे ही हो रही है । जिसे देखो वही बाबा की पोल खोलने पर उतारू है । बाबा के तमाम अपराध , ख़ुराफ़ातें और राजनीतिक गठजोड़ के क़िस्से दूसरों को बढ़ चढ़ कर बताने को हर कोई बेताब है । एसे पेश किया जा रहा है कि जैसे यह सब कुछ बाबा छुप छुपा कर अंजाम दे रहा था और उसका अब भंडाफोड़ हुआ है । कुछ जुझारू क़लमवीर राम रहीम के अतिरिक्त अन्य बाबाओं को भी लपेट रहे हैं। तो क्या अब हम मान लें कि देश में बाबागिरी का धंधा चौपट हो गया है ? क्या अब इन तमाम बाबाओं के दिन लद गए ? क्या अब और कोई बाबा बलात्कारी सामने नहीं आएगा ? क्या देश की सवा सौ करोड़ जनता को ईश्वर के इन बिचौलियों से मुक्ति मिल गई ? क्या सचमुच एसा होने जा रहा है ?

हमारे धर्म ने भी बड़ा लम्बा सफ़र तय कर लिया है । पहले निराकार प्रभु फ़िर प्रकृति , बाद में कुछ इष्ट देव , इसके बाद इष्ट की मूर्तियाँ और अब पिछले कुछ दशकों में ज़िंदा मूर्तियाँ यानि बाबा लोग । पता नहीं अब अगला पड़ाव क्या हो ? ख़ास बात यह है कि अब कोई भी बाबा ईश्वर की आराधना का मार्ग नहीं बताता वरन गुरु की महिमा का ही बखान करता है । धर्म ग्रंथों और पीर फ़क़ीरों की भी वही वाणी भक्तों को रटाई जाती है जिसने गुरु को ही ईश्वर का रूप बताया गया है । अब गुरु तो वह ख़ुद हैं ही सो साक्षात ईश्वर कहलाते हैं वे अब । अब जब ईश्वर हैं तो अपना अलग धर्म ही चला देते हैं । जिनमे इतनी कूवत नहीं वे अपना सम्प्रदाय अथवा समूह बना लेते हैं । हर समूह के अपने अपने नियम अपने अपने क़ानून क़ायदे । औरतों के लिए तो कुछ ख़ास ही नियम । शोरूम में भक्ति और सेवा और गोदाम में शक्ति और मेवा । पब्लिक भी बावली हुई जा रही है । उसे भी धर्म-वर्म से कुछ लेना देना नहीं । उसे तो बस अपनी समस्याओं से तुरंत निजात चाहिए । धर्म के चक्कर में पड़े तो वह कर्मों का चक्कर बता देगा । बाबा जी इंस्टेंट समाधान करते हैं । रेलवे स्टेशन पर रखी वज़न नापने वाली मशीन जैसे । सिक्का डालो , टिकिट बाहर । पब्लिक को देख कर नेता खिंचे चले आते हैं और नेताओं को देखकर धनपशु । इन दोनो को देखकर पुनः पब्लिक । एसा चक्का जिसका छोर कोई ढूँढ नहीं सकता । हर जाति का अपना अलग बाबा । हर गाँव शहर का अपना बाबा । सयाने कहते हैं कि पब्लिक को दुःख ही ना हो तो बाबाओं की दुकान ख़ाली हो जाए मगर एसा हो भी कैसे ? इसके लिए तो काम करना पड़ेगा । लोगों को पढ़ाना पड़ेगा । रोज़गार देना होगा , रोटी , कपड़ा , मकान और सस्ता इलाज देना पड़ेगा । अब इन सब चक्करों में कौन पड़े । इससे अच्छा बाबा जी को ही सीधा पकड़ लो ।

गुरु नानक कहते थे-सुनते पुनीत कहते पवित्र , सतग़ुर रेहा भरपूरे …मगर अब दुनिया बदल रही है । गुरु लोग गुरु घंटाल हो गए हैं । इन्हें सुन कर कोई पुनीत नहीं हो रहा । इनकी बात करके कोई पवित्र नहीं हो सकता । राम रहीम की गिरफ़्तारी पर आप बेशक ख़ुश हो लें मगर इस ख़ुशी का कोई ख़ास मतलब नहीं है । देश में बाबाओं की फ़ौज तो आज भी दिन दूनी रात चौगुनी की दर से बढ़ रही है । पंजाब में जितने गाँव नहीं हैं उनसे अधिक तो बाबाओं के डेरे हैं । पंजाब ही क्यों , पूरे देश का यही हाल है । आज के दौर में जब हर शय उत्पाद है एक प्रोडक्ट है तो साधू-संतों और पीर फ़क़ीरों के देश में बाबागिरी का प्रोडक्ट ना चले , एसा कैसे हो सकता है । तभी तो कहते हैं – बाबा नाम केवलम ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

RELATED POST

ठहरे हुए लोग

रवि अरोड़ाबचपन से ही माता पिता के साथ गुरुद्वारों में माथा टेकने जाता रहा हूं । गुरुद्वारा परिसर में किसी…

मुंह किधर है

रवि अरोड़ाआज सुबह व्हाट्स एप पर किसी ने मैसेज भेजा कि हिंदुओं बाबा का ढाबा तो तुमने प्रचार करके चला…

जहां जा रही है दुनिया

रवि अरोड़ामैने सन 1978 में एम एम एच कॉलेज में एडमिशन लिया था । पता चला कि कॉलेज में एक…

देखो एक नदी जा रही है

रवि अरोड़ासोशल मीडिया पर सुबह से डॉटर्स डे के मैसेज छाए हुए हैं । इन मैसेज के बीच हौले से…