पुरानी खुराक

बुज़ुर्ग अक्सर अपने ज़माने के घी, दूध और कनक के गुणगान करते हैं । वे आज के खान-पीन को फोका बताते हुए अपने पुराने दिनो को याद भी करते रहते हैं । वैसे कई बार उनकी बातें ठीक भी जान पड़ती हैं । मिसाल के तौर पर अब मेरे माता-पिता को ही देख लीजिये । दोनो 90 और 82 साल के हो गए मगर अब भी बिना चश्मे के पढ़ते हैं । पिता जी आज भी शाम तक नंगी आँखों से कई अख़बार घोट लेते हैं और माँ दिन भर सुखमनी साहेब के गुटके में ही नज़रें गड़ाई रखती हैं । ….पता नहीं इस उम्र तक हम पहुँचेंगे भी या नहीं और यदि पहुँचे तो किस हाल में होंगे । क्या करें हमने कौन सी पुरानी खुराकें खा रखी हैं ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

RELATED POST

नफरतों के ऑब्जेक्ट

रवि अरोड़ाहालांकि मैं अपने पर्स में हमेशा अपना आधार कार्ड रखता हूं मगर सुबह अखबार पढ़ने के बाद आज एक…

विधवा विलाप

रवि अरोड़ामुल्क का राजनीतिक तापमान चढ़ा हुआ है । काशी की ज्ञान वापी मस्जिद में शिवलिंग मिला है या फव्वारा…

किसान आंदोलन की वापसी

रवि अरोड़ाहवाओं में अब एक नए सवाल की आमद हो गई है । सवाल यह है कि क्या एक बार…

नंबर किस किस का

रवि अरोड़ानैनीताल जाते हुए हर बार रामपुर से होकर गुजरना ही पड़ता है । दो दशक पहले तक तो रामपुर…