पीपुल टुडे

मित्रों छः साल पहले पीपुल टुडे शीर्षक से एक समाचार पत्र का प्रकाशन शुरू किया था । किन्हीं कारणों से यह प्रकाशन बंद हो गया । आपके आशीर्वाद से एक मासिक पत्रिका के रूप में पीपुल टुडे पुनः पाठकों के समक्ष आ गया है । इस पत्रिका में देश के जाने माने पत्रकारों के सम सामयिक विषयों पर उम्दा लेखों का समावेश होगा है । कृपया पत्रिका का अवलोकन कर उसके बाबत अपनी बहुमूल्य राय से मुझे अवगत कराने का कष्ट करें ताकि अगले अंकों में एच्छिक सुधार किये जा सकें। सादर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

RELATED POST

अविश्वास तेरा ही सहारा

रवि अरोड़ादस साल के आसपास रही होगी मेरी उम्र जब मोहल्ले में पहली बार जनगणना वाले आये । ये मुई…

पैसे नहीं तो आगे चल

रवि अरोड़ाशहर के सबसे पुराने सनातन धर्म इंटर कालेज में कई साल गुज़ारे । आधी छुट्टी होते ही हम बच्चे…

एक दौर था

एक दौर था जब बनारस के लिए कहा जाता था-रांड साँड़ सीढ़ी और सन्यासी , इनसे जो बचे उसे लगे…

चोचलिस्टों की दुनिया

शायद राजकपूर की फ़िल्म 'जिस देश में गंगा बहती है ' का यह डायलोग है जिसने अनपढ़ बने राजकपूर किसी…