जीत तो जीत ही होती है

एनडीटीवी के प्रसारण पर एक दिन के बैन का आदेश आख़िरकार केंद्र सरकार को वापिस लेना पड़ा । मामला सुप्रीम कोर्ट तक पहुँच गया था और सरकारी आदेश पर रोक के आसार वहाँ बन गए थे । एसे में अपनी किरकिरी से बचने को सरकार ने यह क़दम उठाया । ज़ाहिर है कि यह जीत एनडीटीवी के खाते में ही डाली जाएगी मगर इसमें भी कोई दो राय नहीं कि जीत पूरे मीडिया जगत की हुई है । इस मामले में देश भर के मीडिया कर्मियों ने एनडीटीवी के पक्ष में जो एकजुटता दिखाई थी, असर उसका भी हुआ । …एनडीटीवी के बहाने मोदी सरकार ने मीडिया पर लगाम लगाने का एक प्रयोग किया था जो असफल हुआ । उम्मीद है कि सरकार इससे सबक़ लेगी और दुबारा अपनी छीछालेदर कराने से बचेगी । …बेशक मीडिया जगत के लिए यह ख़ुशी का अवसर है मगर अब उसे आत्मविश्लेषण भी करना होगा ताकि भविष्य में सरकार को एसा कुछ करने का अवसर ही ना मिले । …बहरहाल जीत तो हुई ही है । बेशक यह छोटी सी लगती है मगर जीत तो जीत ही होती है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

RELATED POST

नंबर किस किस का

रवि अरोड़ानैनीताल जाते हुए हर बार रामपुर से होकर गुजरना ही पड़ता है । दो दशक पहले तक तो रामपुर…

रहनुमाओं की अदा

रवि अरोड़ाआज सुबह से मशहूर शायर दुष्यंत कुमार बहुत याद आ रहे हैं । एक दौर था जब साहित्य, समाज…

दुनिया वाया सुरमेदानी

रवि अरोड़ाएक दौर था जब माएं अपने छोटे बच्चों को तैयार करते समय नहलाने, कपड़े पहनाने और कंघा करने के…

आखिर अब तक

रवि अरोड़ायाददाश्त अच्छी होने के भी बहुत नुकसान हैं । हर बात पर दिमाग अतीत की गलियों में भटकने चला…