कोरोना गया तेल लेने

रवि अरोड़ा
इस बार रामलीलाएँ नहीं हुईं । बहुतों के दिल टूटे । सबसे अधिक निराश वे हुए जिनकी रोज़ी-रोटी ही इन रामलीलाओं और उसके मेलों से चलती है । लाइट, टेंट व झूले वाले, करतब और तमाशा दिखाने वाले तथा तमाम तरह के छोटे-बड़े दुकानदार साल भर इंतज़ार करते हैं रामलीला के दिनो का । मेले-ठेले का शौक़ीन आम आदमी भी बड़ी बेताबी से इन दिनो की बाट जोहता है मगर इस बार हर कोई हताश हुआ । उन लोगों के तो चेहरे ही लटक गए जो रामलीला कमेटियों के पदाधिकारी अथवा सदस्य हैं । रामलीला के बहाने पंद्रह दिन तक उनकी पूरी मौज रहती थी । हर दस पाँच मिनट में मंच पर आकर लोगों को अपनी शक्ल दिखाने का मौक़ा मिलता था । अफ़सरों और नेताओं की सोहबत रहती थी सो अलग । मगर हाय रे कोरोना ! इस बार सबका दिल तोड़ दिया।

वैसे तो होली, दिवाली, दशहरा व अन्य सभी त्यौहार अब अपना मूल स्वरूप खोकर बिज़नस मोडयूल भर हो चुके हैं मगर इससे फ़र्क़ भी क्या पड़ता है ? हाँ परम्परावादियों की तरह इन त्योहारों के कुछ पुरातन अर्थ ढूँढने बैठें तो बात कुछ और है । अब अखबारी भाषा के अनुरूप सचमुच ही यदि हम रावण के पुतले फूंके जाने को बुराई पर अच्छाई की जीत जैसा कुछ मानने लगें तो हमारा वाक़ई कुछ नहीं हो सकता । सबको पता है कि साल में एक बार पुतला फूँकने से न तो अच्छाई की जीत होती है और न ही बुराई का अंत । हाँ इस बहाने पुतले बनाने वालों को रोज़गार ज़रूर मिल जाता है । वैसे यह संतोष का विषय नहीं है क्या कि इन रामलीलाओं से देश भर में लाखों के पेट पलते हैं ? बुज़ुर्ग कुछ सोच कर ही तो कहते हैं कि हर वह काम अच्छा है जिससे चार आदमियों का भला हो । अब हिसाब लगायें कि ये दशहरा का त्यौहार इस बार भी न जाने कितनो का भला करके जाता है मगर इस मुए कोरोना ने सबके पेट पर लात मार दी ।

सबको पता है कि कोरोना से बड़ा है देश के समक्ष आन खड़ा हुआ आर्थिक संकट । मूर्खतापूर्ण तरीक़े से लगे लॉक़डाउन के चलते पूरे देश की अर्थव्यवस्था चौपट हो गई है । ग़रीब और मध्यवर्गीय आदमी का जीना मुहाल है । अर्थशास्त्री कह रहे हैं कि इस संकट से उभरने का एक ही तरीक़ा है और वह यह कि लोगों के हाथ में पैसा पहुँचे और वे उसे ख़र्च करें । बेशक इस दिशा में कुछ सरकारी प्रयास हुए हैं मगर ये सभी नाकाफ़ी साबित हुए हैं । त्योहारों पर रुपये का चक्का तेज़ी से घूमता है । रामलीलाएँ भी इस काम में हाथ बँटाती हैं मगर अनुमति नहीं मिलने से इस साल देश भर में रामलीलाएँ नहीं हुईं । जहाँ हुईं भी वहाँ भी सब कुछ प्रतीकात्मक था और उनसे रुपये का चक्का घूमने में कोई मदद नहीं मिली ।

मेरे कहने का कदापि यह अर्थ नहीं है कि सरकार को रामलीलाएँ करने की अनुमति देनी चाहिये थी । आज जब महामारी अपने चरम पर है तब ऐसी माँग की भी नहीं जानी चाहिये । इस माहौल में एक ही स्थान पर सैंकड़ों-हज़ारों लोगों की भीड़ एकत्र करने से बड़ा कोई गुनाह तो हो ही नहीं सकता । मगर अपने मन में एक सवाल है कि यह बात बिहार की चुनावी रैलियों पर लागू क्यों नहीं हो रही ? वहाँ कैसे नेता हज़ारों-लाखों लोगों को एक साथ जमा कर अपनी ताक़त का प्रदर्शन कर रहे हैं ? पार्टी कोई भी होता , नेता कोई भी हो , सभी बावले हुए घूम रहे हैं । अब किसी को कोरोना नहीं दिख रहा । ख़ुद मास्क भी पहन रहे हैं और लोगों से दूर दूर भी खड़े होते हैं । सेनीटाईज़र की बोतलें भी दिन भर ख़ुद पर ज़रूर उडेल रहे होंगे मगर रैली में आई भीड़ का किसी को कोई ख़याल नहीं । काश इन रामलीलाओं से भी नेताओं को थोक के भाव वोट मिलते तो मेरा दावा है कि रामलीलाओं का मंचन भी ये लोग ख़ुद ही करते । वोट की ख़ातिर हर कोई कहता- कोरोना गया तेल लेने ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

RELATED POST

नंबर किस किस का

रवि अरोड़ानैनीताल जाते हुए हर बार रामपुर से होकर गुजरना ही पड़ता है । दो दशक पहले तक तो रामपुर…

रहनुमाओं की अदा

रवि अरोड़ाआज सुबह से मशहूर शायर दुष्यंत कुमार बहुत याद आ रहे हैं । एक दौर था जब साहित्य, समाज…

दुनिया वाया सुरमेदानी

रवि अरोड़ाएक दौर था जब माएं अपने छोटे बच्चों को तैयार करते समय नहलाने, कपड़े पहनाने और कंघा करने के…

आखिर अब तक

रवि अरोड़ायाददाश्त अच्छी होने के भी बहुत नुकसान हैं । हर बात पर दिमाग अतीत की गलियों में भटकने चला…