कहीं से भी पुकार सकता है रावण

रवि अरोड़ा
लीजिए रावण का वध हो गया । ख़ुशी का ही तो अवसर है कि रावण मारा गया । आज के उस दौर में जब रावण मारे नहीं जाते वरन ऊँचे और ऊँचे होते जाते हैं वहाँ टेलीविजन के धारावाहिक में ही सही रावण मरा तो सही । आज जब रामों के वनवास का अनिश्चितक़ालीन दौर है तब छोटे पर्दे पर ही सही राम का विजयी होना हर्षोल्लास तो पैदा करता ही है । बेशक विभीषण का राज्याभिषेक हो गया मगर उसके मान-सम्मान की यह पहली और आख़िरी घटना होगी । विभीषण सदैव दुत्कारे ही जाते हैं और संभवतः युग युगांतर तक इसी गति को प्राप्त होंगे । हालाँकि रावण का भी नाम फिर किसी ने अपने नवजात शिशु को नहीं दिया मगर श्रीराम का प्रिय होने के बावजूद यह सम्मान विभीषण ने भी तो कभी नहीं पाया । कितना सुखद अहसास है कि युगों बाद भी हम विभीषणों को पहचानते हैं और उनके साथ वही करते हैं जो रावण ने किया । बेशक राम हमारे आदर्श हैं और सदैव रहेंगे मगर विभीषणों के मामले में तो हमारा समाज सदैव रावण के ही साथ रहा है । लेकिन एसा क्यों है कि हम राम और रावण की पहचान में अक्सर भ्रमित हो जाते हैं ?
दुनिया दुरूह हो चली है । साथ ही दुरूह हो चली है राम और रावण की पहचान । कलयुग के राम और रावण अब इतने सरल कहाँ कि उनकी मोहक मुस्कान अथवा अट्टहास से हम उनकी शिनाख्त कर लें । बेशक राम अब भी अट्टहास नहीं लगाते मगर रावणों की मुस्कान भी तो अब मोहक हो चली हैं । बेशक रावण तब भी मायावी था मगर अब राम भी तो चुपके से व्यक्तियों में नहीं वृत्तियों में जा बसे हैं । और उन्हें व्यक्तियों में ढूँढने वाले सदैव निराश ही होते हैं । रावण का माया जाल अब भी अचूक है । अक्सर राम बन कर वह हमें भ्रमित करता है और हम दूसरों में रावण और स्वयं में राम का वास समझ बैठते हैं । दूसरी जातियों और धर्मों में हमें सदैव रावण ही अपनी जँघा पर हाथ मारते दिखते हैं । शायद वे रावण ही होते हैं जो राम की परिस्थितियों का वास्ता देकर हमें स्वर्ण हिरणों के आखेट को उकसाते हैं । वे क़तई प्रभु राम नहीं हो सकते जो दूसरों की लंका जलाने को हमें प्रेरित करते हैं । राम तो शायद वही होंगे जो कहते हैं कि मेरी परिस्थितियाँ , देशकाल व सामाजिक मूल्य अलग थे , तुम्हारे अलग हैं । यक़ीनन राम वही हैं जो कहते हैं कि नैतिक मूल्य कमोवेश शाश्वत हैं और उनके पीछे पीछे चलो ।
राम वही हैं , जो हमारे भीतर आकर चुपके से कहते हैं कि भूतकाल के मंथन में कुछ और नहीं केवल विष ही उत्पन्न होगा । अब इस विष का ही मंथन करके चहुंओर दुर्गन्ध मत करो । नफ़रत को बिलोवोगे तो मक्खन नहीं नफ़रत ही मिलेगी । राम वही हैं जो कहते हैं कि सुर असुर जातियों को नहीं कर्म को कहते हैं । राम वही हैं जो कहते हैं कि अब संध्याकाल में युद्धविराम नहीं होते वरन रावण और उनका कुनबा तब ही अधिक सक्रिय होता है । रावण कहीं भी जा सकते हैं । वे कहीं से भी आपको पुकार सकते हैं , मंचों से , ओहदों से, अख़बारों से , टेलिविज़न से और ऊँची कुर्सियों से भी । राम बताते हैं कि अब आसान नहीं है मेरी और रावण की पहचान ।
ख़ुशी का अवसर है कि हमने एक बार फिर रावण को मरते देखा । अब हमें कुछ और करने की ज़रूरत नहीं । राम हर साल आते तो हैं रावण को मारने । आगे भी आते ही रहेंगे । हर बार उन्हें पहले से बड़ा रावण मिलेगा वध के लिए । आइये हिसाब लगायें कि पिछले साल के मुक़ाबले इस साल और कितना बड़ा रावण हमें राम के हवाले करना है । वृत्तियों में हम नहीं ढूँढ पाएँगे राम और रावण को । आइये पुतलों और मूर्तियों से ही ख़ुद को बहलायें ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

RELATED POST

ठहरे हुए लोग

रवि अरोड़ाबचपन से ही माता पिता के साथ गुरुद्वारों में माथा टेकने जाता रहा हूं । गुरुद्वारा परिसर में किसी…

मुंह किधर है

रवि अरोड़ाआज सुबह व्हाट्स एप पर किसी ने मैसेज भेजा कि हिंदुओं बाबा का ढाबा तो तुमने प्रचार करके चला…

जहां जा रही है दुनिया

रवि अरोड़ामैने सन 1978 में एम एम एच कॉलेज में एडमिशन लिया था । पता चला कि कॉलेज में एक…

देखो एक नदी जा रही है

रवि अरोड़ासोशल मीडिया पर सुबह से डॉटर्स डे के मैसेज छाए हुए हैं । इन मैसेज के बीच हौले से…