उल्लू गिरी

रवि अरोड़ा
हर साल की तरह इस बार भी कॉर्बेट नेशनल पार्क के कर्मचारियों को दिवाली पर छुट्टी नहीं मिली । जिनकी छुट्टियां पहले से ही स्वीकृत थीं , उन्हे भी रद्द कर दिया गया । कारण वही सदियों पुराना था यानी उल्लू । जी हां हर बार की तरह इस बार भी दिवाली पर उल्लुओं को शिकारियों से बचाने के लिए वन्य विभाग कर्मियों को भरपूर मशक्कत करनी पड़ी । बेचारे करें भी तो क्या, दिवाली पर उल्लुओं की शामत जो आ जाती है । इस दौरान बलि के लिए बाजार में उल्लुओं की मांग इस कदर बढ़ जाती है कि आपूर्ति ही नहीं हो पाती । कुछ लोग महीनों पहले उल्लू खरीद लेते हैं और मांस व मदिरा से उसको मोटा करते हैं तथा दिवाली की रात लक्ष्मी की पूजा कर उसी उल्लू की बलि ले लेते हैं । उन्हे लगता है कि पूजा के बाद लक्ष्मी जी कहीं वापिस न लौट जाएं इसलिए उनके वाहन उल्लू को ही रास्ते से हटाना जरूरी है । अब इन्हीं धार्मिक उल्लुओं की उल्लू गिरी के चलते इस बार भी दिवाली पर निरीह प्राणी उल्लू की कीमत एक लाख तक पहुंच गई ।

अब आप कहेंगे कि उल्लू तो संरक्षित वन्य पक्षी है और उसका व्यापार व हत्या कैसे हो सकती है ? जी बिलकुल ठीक कहा आपने । देश में उल्लू को लुप्तप्राय पक्षियों की श्रेणी में माना गया है और कानूनन इसकी खरीद फरोख्त पर तीन साल की सजा का प्रावधान है मगर इससे क्या होता है ? धार्मिक आडंबर के आगे नियम कानून की हमारे मुल्क में भला क्या बिसात है ? नियम कानून तो न जाने क्या क्या कहते हैं , सब कुछ मान लेते हैं क्या हम ? अब सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि दिवाली पर पटाखे न चलाएं , हमने नहीं चलाए क्या ? सुप्रीम कोर्ट का क्या है , वह तो हर साल यही कहता है , हम सुनते हैं क्या ? खबरें बता रही हैं कि पटाखों से इस बात भी इतना इतना प्रदूषण हुआ और इतने इतने लोग सांस की तकलीफ के चलते अस्पताल में भर्ती हुए । कुछ फर्क पड़ता है क्या इससे ? आप इस पर बात तो करके देखिए , लोगबाग चढ़ दौड़ेंगे आप पर । कहेंगे कि यह हमारा धार्मिक मामला है , तुम होते कौन हो इस पर बात करने वाले । ज्यादा चूं चपड़ करके देखिए , सीधी चुनौती मिलेगी कि बकरीद पर तुम क्यों नहीं बोलते ? फलां फलां मौके पर तुम्हारी आवाज क्यों नहीं निकली ? वगैरह वगैरह ।

कई दफा मन करता है कि जंगली उल्लुओं और शहरी उल्लुओं में तुलनात्मक अध्ययन करूं । उनके बीच की कई समानताएं मुझे इसके लिए उकसाती हैं । दिवाली का त्यौहार इसके लिए तो बिलकुल मुफीद लगता है । दिवाली यानी लक्ष्मी , लक्ष्मी यानी धन , धन यानि दिखावा, दिखावा यानि मूर्खता, मूर्खता यानि उल्लू और उल्लू यानि दिवाली । पता नहीं यह क्रम आपको जंचा या नहीं मगर हो तो यही रहा है । किसी गरीब को अपना पेट काट कर पटाखे फोड़ते तो किसी ने नहीं देखा होगा । बेशक दिवाली उसने भी धूमधाम से ही मनाई होगी । पटाखे तो धनपशुओं ने ही फोड़े और अब धर्म का पटाखों से कनेक्शन भी उनकी ही ईजाद है । कमाल है कि इन शहरी उल्लुओं ने भी जंगली उल्लुओं की तरह शराब और मांस का जम कर भक्षण दिवाली पर किया होगा मगर फिर भी उनकी बलि नहीं हुई । बलि तो जंगली उल्लुओं की हुई या उन शहर वासियों की जो अब जहरीली हवा में सांस ले रहे हैं ।

हो सकता है कि आप कहें दिवाली का माहौल है जी । थोड़े बहुत पटाखे चल गए तो क्या फर्क पड़ता है ? मैं आपकी बात से सहमत हो सकता हूं मगर फिर आपको जंगली उल्लुओं की बलि पर दुःख प्रकट करने का कोई हक नहीं होगा । आप दोनो तरह के उल्लुओं के एक साथ समर्थक नहीं हो सकते । हां यदि फिर भी आपकी यही जिद है तो मै आपकी इस उल्लू गिरी का समर्थक नहीं हूं ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

RELATED POST

नंबर किस किस का

रवि अरोड़ानैनीताल जाते हुए हर बार रामपुर से होकर गुजरना ही पड़ता है । दो दशक पहले तक तो रामपुर…

रहनुमाओं की अदा

रवि अरोड़ाआज सुबह से मशहूर शायर दुष्यंत कुमार बहुत याद आ रहे हैं । एक दौर था जब साहित्य, समाज…

दुनिया वाया सुरमेदानी

रवि अरोड़ाएक दौर था जब माएं अपने छोटे बच्चों को तैयार करते समय नहलाने, कपड़े पहनाने और कंघा करने के…

आखिर अब तक

रवि अरोड़ायाददाश्त अच्छी होने के भी बहुत नुकसान हैं । हर बात पर दिमाग अतीत की गलियों में भटकने चला…