अनुरोध

मित्रों, नमस्कार
जैसा कि आप जानते ही हैं कोरोना संकट के चलते आजकल पूरा देश अभूतपूर्व संकट में है । इस महामारी ने धीरे धीरे समाज के हर तबके को अपनी चपेट में ले लिया है । सभी के सामने स्वास्थ्य के साथ साथ आर्थिक संकट भी मुँह बाये खड़ा है । सबसे बुरी स्थिति में असंघटित क्षेत्र के श्रमिक, दिहाड़ी मज़दूर , ठेली-पटरी, रिक्शा वाले और रोज़ कमाने-खाने वाले लोग हैं । उनके सामने अपने जीवन की रक्षा से भी बड़ी चुनौती दो वक़्त की रोटी का इंतज़ाम करना हो चुका है । राहत का विषय है कि इस काम में समाज के अनेक जागरूक लोग आगे आये हैं और प्रतिदिन ज़रूरतमंदों को निशुल्क भोजन उपलब्ध करा रहे हैं । आप सभी के सहयोग से इस कार्य में मैंने भी यथासम्भव हाथ बटाने का प्रयास किया है ।
मित्रों आप यह भी जानते हैं कि इन दिनो क़ोविड 19 देश में अपने चरम की ओर बढ़ रहा है और हमारे शहर में भी इसके मरीज़ों की संख्या में प्रतिदिन इज़ाफ़ा हो रहा है । इस समय हम सबका फ़र्ज़ है कि हम अपने और अपने परिवार के साथ साथ अपने सगे सम्बन्धियों , मित्रों, पड़ोसियों और समाज के सभी लोगों को भी इस महामारी से बचायें । हालाँकि बचाव का सबसे महत्वपूर्ण तरीक़ा तो सोशल डिसटेंसिंग ही है मगर घर से बाहर निकलते समय मास्क के इस्तेमाल से भी हम अपनी और अपनो की रक्षा कर सकते हैं । ईश्वर की कृपा से हम और आप इस स्थिति में हैं कि अपने लिए बेहतर से बेहतर मास्क ख़रीद सकते हैं मगर हमारे शहर में लाखों लोग एसे हैं जो इस स्थिति में नहीं हैं । शहर को महामारी के चंगुल से बचाने के लिए ज़रूरी है कि घर से बाहर निकलने वाले हर व्यक्ति के चेहरे पर मास्क हो । यह उस व्यक्ति के लिए ही नहीं पूरे समाज की आज पहली ज़रूरत है ।
दोस्तों आप लोगों के लगातार उत्साहवर्धन से मेरे कुछ मित्रों ने शहर में मुफ़्त मास्क वितरित करने का बीड़ा उठाया है । मेरा आपसे अनुरोध है कि आप भी इस ज़रूरी काम में सहयोग करें । वितरण के लिए दो प्रकार के मास्क का चुनाव हमने किया है । जिनमे से एक बारह रुपये का तथा दूसरा पंद्रह रुपये का है । मास्क कहाँ से मिलेंगे इसकी जानकारी आप मुझे फ़ोन करके प्राप्त कर सकते हैं । आपकी ओर से ज़रूरतमंदों को मास्क बाँटने की ज़िम्मेदारी हमारी होगी । आपसे पुनः अनुरोध है कि संकट की इस घड़ी में एक अच्छे शहरी होने का अपना फ़र्ज़ अदा करें और उन लोगों के भी जीवन की रक्षा करें जिनका जीवन आपके लिए भी बहुत महत्वपूर्ण है ।
सादर
रवि अरोड़ा
9873431863

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

RELATED POST

अविश्वास तेरा ही सहारा

रवि अरोड़ादस साल के आसपास रही होगी मेरी उम्र जब मोहल्ले में पहली बार जनगणना वाले आये । ये मुई…

पैसे नहीं तो आगे चल

रवि अरोड़ाशहर के सबसे पुराने सनातन धर्म इंटर कालेज में कई साल गुज़ारे । आधी छुट्टी होते ही हम बच्चे…

एक दौर था

एक दौर था जब बनारस के लिए कहा जाता था-रांड साँड़ सीढ़ी और सन्यासी , इनसे जो बचे उसे लगे…

चोचलिस्टों की दुनिया

शायद राजकपूर की फ़िल्म 'जिस देश में गंगा बहती है ' का यह डायलोग है जिसने अनपढ़ बने राजकपूर किसी…