अंटी में क्या है

रवि अरोड़ा
चुनाव की बेला है । प्रत्याशी धड़ाधड़ नामांकन दाखिल कर रहे हैं । कई चरणों में चुनाव होने हैं सो यह क्रम अभी लंबा चलेगा । परंपरा ही कुछ ऐसी है नामांकन दाखिल होते ही अखबार प्रत्याशी की घोषित जन्मकुंडली छापते हैं । किसके पास कितनी चल अचल संपत्ति , कितने मुकदमे, शिक्षा और कौन कौन सी गाड़ी है वगैरह वगैरह । इस वैगरह वगैरह के क्रम में यह भी लिखा होता है कि प्रत्याशी के पास कौन कौन से हथियार हैं । पता नहीं क्या गंदी आदत है कि मेरा ध्यान हथियार वाली बात पर सबसे पहले जाता है । दरअसल मुझे लगता है कि बाकी तमाम घोषणाओं में तो हेर फेर होगा मगर यह इकलौती ऐसी बात है जिसमे कोई लाग लपेट नहीं हो सकती । जैसे बेनामी संपत्ति का लेखा जोखा कोई ढूंढ नहीं सकता । माल मत्ता कितना दिखाना है यह प्रत्याशी से अधिक उसके चार्टेड एकाउंटेंट की काबिलियत पर निर्भर करता है । शिक्षा वाले कॉलम में तो राष्ट्रीय स्तर के नेता भी झोल कर लेते हैं । मुकदमों की संख्या भी फाइनल रिपोर्ट लगवा कर कम की जा सकती है । ले देकर हथियार ही ऐसा कॉलम है जिसमें चाह कर भी कोई प्रत्याशी झूठी घोषणा नहीं कर सकता । हां हथियार अवैध हो तो बात अलग है ।

मेरे शहर समेत पहले राउंड की तमाम विधान सभा सीटों पर नामांकन हो चुका है । अपनी बुरी आदत के अनुरूप इसबार भी मेरा ध्यान केवल इसी बात पर है कि किस प्रत्याशी के पास कौन सा हथियार है ? वैसे थोड़ी हैरानी भी होती है कि राजनीति तो सेवा कार्य है फिर इसमें ऐसा कौन सा जान का खतरा है कि हमारे नेताओं को हथियार रखना पड़ जाता है ? यूं भी तो गांधी जयंती और दूसरे तमाम राष्ट्रीय उत्सवों में ये नेता हमें अहिंसा का पाठ पढ़ाते रहते हैं , फिर हिंसा के इस औजार की उन्हें क्या जरूरत है ? अब तक मैं सैकड़ों प्रत्याशियों का चुनाव अधिकारी के समक्ष प्रस्तुत बायोडाटा खंगाल चुका हूं , अधिकांश के पास पिस्टल, रिवाल्वर, दोनाली अथवा राइफल मौजूद है । अच्छी खासी भली सूरत वाले प्रत्याशियों के पास भी गन है । उनके पास भी है जिनके पास कोई माल असबाब भी नहीं है । पता नहीं क्या लुटने का खतरा उन्हें है ? और तो और महिला प्रत्याशियों के पास भी हथियार है । मुख्यमंत्री , पूर्व मुख्यमंत्री स्तर के ऐसा नेता भी हथियार लिए बैठे हैं जिनकी सुरक्षा में पूरा अमला दिन भर लगा रहता है । अहिंसा का राग अलापने वाले देश का यह हाल है । कमाल है , कैसे लोग आ गए हैं राजनीति में ?

बेशक प्रदेश में मात्र प्वाइंट 63 फीसदी लोगो को हथियार का लाइसेंस मिला हुआ है । मगर यहां के बाशिंदों के सिर हथियार का भूत ही सवार है । हर जिले में असला बाबू की औकात कलक्टर जैसी है । जिनके पास लाइसेंस है अथवा जिन्होंने इसके लिए आवेदन किया हुआ है, उन्हें पता है कि सामान्य आदमी की जूतियां घिस जाती हैं एक अदद लाइसेंस बनवाने में । सारे नियम कानूनों का पालन करने के बावजूद यह जिलाधिकारी के मूड पर निर्भर करता है कि आपको लाइसेंस मिलेगा अथवा नहीं । अधिकांश नेता भी बताते हैं कि उनके पास आने वाली आधी सिफारिशें हथियार के लाइसेंस की ही होती हैं । पूरे प्रदेश में हथियार का ऐसा क्रेज है कि देश भर में सर्वाधिक हथियार इसी सूबे में हैं । कई जिले तो ऐसे हैं कि बंदे के पांव में जूता हो अथवा नहीं , मगर कंधे पर बंदूक जरूर होगी । अब ऐसी आबोहवा हो तो नेता जी पहले अपना लाइसेंस ही तो बनवाएंगे । गण तंत्र दिवस आ रहा है । इस बार भी हम शहर शहर गली गली शांति, अहिंसा , प्रेम और सद्भावना पर छोटे बड़े नेताओं के भाषण सुनेंगे । यदि मन करे तो आप भी इसबार मेरी तरह नेता जी की अंटी पर ध्यान देना और पता करने की कोशिश करना कि उनकी पेंट में रिवाल्वर है या पिस्टल ?

Leave a Reply

Your email address will not be published.

RELATED POST

नंबर किस किस का

रवि अरोड़ानैनीताल जाते हुए हर बार रामपुर से होकर गुजरना ही पड़ता है । दो दशक पहले तक तो रामपुर…

रहनुमाओं की अदा

रवि अरोड़ाआज सुबह से मशहूर शायर दुष्यंत कुमार बहुत याद आ रहे हैं । एक दौर था जब साहित्य, समाज…

दुनिया वाया सुरमेदानी

रवि अरोड़ाएक दौर था जब माएं अपने छोटे बच्चों को तैयार करते समय नहलाने, कपड़े पहनाने और कंघा करने के…

आखिर अब तक

रवि अरोड़ायाददाश्त अच्छी होने के भी बहुत नुकसान हैं । हर बात पर दिमाग अतीत की गलियों में भटकने चला…